Saturday, March 2, 2024
Home हेल्थ सेहत के बारे में काफी कुछ बताते हैं कान, जानिए कैसे

सेहत के बारे में काफी कुछ बताते हैं कान, जानिए कैसे

क्या आपने कभी अपने कानों में कोई परिवर्तन या परेशानी महसूस की है? अगर हां तो ये लक्षण अंदरूनी स्वास्थ्य समस्याओं के संकेत हो सकते हैं और इन्हें नजरअंदाज करना मुसीबत खड़ी कर सकता है। हमारे कान हमारे दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जिसमें हमारी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के संकेत भी शामिल है। आइए आज हम आपको ऐसे ही 5 संकेतों के बारे में बताते हैं, जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए।

कम सुनाई देना
कम सुनाई देना अक्सर अनुवांशिक स्थितियों जैसे डाउन और टर्नर सिंड्रोम आदि से जुड़ा होता है। डाउन सिंड्रोम वाले लोगों में आमतौर पर अन्य शारीरिक बदलाव भी होते हैं। टर्नर सिंड्रोम सिर और गर्दन के तालमेल को प्रभावित कर सकता है और विकास सहित यौवन से जुड़ी समस्याएं पैदा कर सकता है। कम सुनाई देना दुर्लभ शार्प्रंजेंज-गोल्डबर्ग और जैकबसेन सिंड्रोम का भी लक्षण हो सकता है। कान नहीं होंठ भी आंतरिक समस्याओं के बारे में बताते हैं।

कर्णपालि पर लकीर
अगर आप अपने कान की कर्णपालि के बीच में लकीर देखते हैं तो यह आपके दिल के साथ संभावित समस्या का संकेत दे सकता है, जिसे फ्रैंक के संकेत के रूप में जाना जाता है। यह लकीर तब बनती है, जब दिल और कान के पास रक्त वाहिकाओं के आस-पास के ऊतक टूट जाते हैं। अगर आपको इस लक्षण के साथ सीने में दर्द या सांस की तकलीफ का अनुभव हो तो डॉक्टर से संपर्क करें।

एकतरफा बहरापन
एकतरफा बहरापन से मतलब है कि किसी एक कान से सुनाई न देना और इसके विभिन्न कारण हो सकते हैं। इसमें कान में संक्रमण होना, मैल का जमाव या ध्वनिक न्यूरोमा नामक शामिल है। अगर यह ट्यूमर बढ़ता है और श्रवण तंत्रिका पर दबाव डालता है तो यह बहरेपन का कारण बन सकता है। ट्यूमर का पता लगाने के लिए चक्कर आना, चेहरे का लटकना और कानों में घंटी बजना जैसे अन्य लक्षणों पर ध्यान दें।

लाल कान
कान के लाल होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे धूप में रहना, हार्मोनल बदलाव या बुखार आदि। कभी-कभी कान लाल होना सामान्य बात है। हालांकि, अगर आप अक्सर माइग्रेन या क्लस्टर सिरदर्द के साथ लाल कान या जलन का अनुभव करते हैं तो यह रेड ईयर सिंड्रोम का संकेत हो सकता है। किसी भी अंदरूनी स्वास्थ्य समस्या की पहचान करने के लिए चिकित्सक जांच की ओर कदम बढ़ाएं।

कान में दर्द
कान में दर्द की समस्या कभी भी किसी को भी हो सकती है। यह समस्या काफी पीड़ादायक होती है और इसके कारण लोग बुखार से भी ग्रसित हो जाते हैं। अक्सर कान के अंदर गंदगी जम जाने या फिर किसी तरह के संक्रमण की वजह से कान में दर्द होने लगता है। हालांकि, कानों के दर्द को नजरअंदाज न करें क्योंकि यह गंभीर अंदरूनी स्वास्थ्य समस्याओं का भी संकेत हो सकता है।

RELATED ARTICLES

पैसिव स्मोकिंग से शरीर को होती हैं कई हानियां, सिगरेट पीने वालों से बनाएं दूरी

सभी जानते हैं कि धूम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इसके साथ ही पैसिव स्मोकिंग (धूम्रपान करने वालों के बीच रहकर न...

आज से ही छोडक़र देखिए आलू, महीनेभर में समझ आ जाएगा फर्क, होंगे जबरदस्त फायदे

आलू सब्जियों का राजा कहा जाता है। हमारे किचन में आलू की खास जगह है। आलू से कई चीजें बनाई जाती है. बहुत से...

अगर आप भी पिंपल और ऑयली स्किन से हैं परेशान तो कर लीजिए इन चीजों से परहेज

ऑयली स्किन के लोगों को अपनी त्वचा का विशेष ख्याल रखना होता है। ऐसी स्किन सेंसिटिव होती है और रिएक्शन के आसार जल्दी होते...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सहायक समाज कल्याण अधिकारियों व छात्रावास अधीक्षकों को मिले नियुक्ति-पत्र

अपनी सेवाओं के माध्यम से अंत्योदय के सिद्धांत को पूर्ण करें - मुख्यमंत्री प्रतिभावान एवं क्षमतावान अभ्यर्थी ही परीक्षाओं में हो रहे सफल- मुख्यमंत्री देहरादून। मुख्यमंत्री...

सेब कास्तकरों का एक माह के भीतर शेष भुगतान किया जाएगा

कृषि मंत्री गणेश जोशी ने अधिकारियों को दिए निर्देश देहरादून। प्रदेश के कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्री गणेश जोशी से आज हाथीबड़कला स्थित उनके कैंप...

प्रकृति से जुड़ने का संदेश देती है पुष्प प्रदर्शनी- महाराज

राज भवन में महाराज ने किया बसंतोत्सव में प्रतिभाग देहरादून। राज भवन में बसंतोत्सव 2024 "संकल्प से सिद्धि, फूलों से समृद्धि" तीन दिवसीय पुष्प प्रदर्शनी...

सीएचसी चौण्ड प्रकरण में इलाज नहीं मिलने पर कार्यवाही के निर्देश

स्वास्थ्य महानिदेशक को लापरवाह चिकित्सकों पर एक्शन लेने के निर्देश कहा, प्रत्येक अस्पताल में चिकित्सकों की लगेगी बायोमेट्रिक उपस्थिति देहरादून। टिहरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चौण्ड...

Recent Comments