Wednesday, February 8, 2023
Home हेल्थ दोपहर के खाने के बाद आलस को दूर करने के लिए अपनाएं...

दोपहर के खाने के बाद आलस को दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 तरीके

क्या आप दोपहर के समय खुद को थका या आलस से भरा हुआ महसूस करते हैं, खासकर दोपहर का भोजन करने के बाद? अगर हां तो इसके कई कारण हो सकते हैं। दिन के दौरान सोने की आवश्यकता महसूस करने से ऊर्जा में कमी आती है और इससे काम पर ध्यान केंद्रित करने में भी मुश्किल होने लगती है। आइए आज हम आपको पांच ऐसे तरीके बताते हैं, जिन्हें अपनाकर आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

नाश्ते को न करें नजरअंदाज
अपने सुबह के नाश्ते को छोड़ देने का मतलब है कि आप उन महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को खो रहे हैं जो एकाग्रता और प्रोडक्टिविटी को प्रभावित कर सकते हैं। वहीं जब आप नाश्ता छोड़ते हैं तो आप दोपहर में ज्यादा खा लेते हैं। नतीजतन आप खुद को सुस्त महसूस कर सकते हैं। इससे बचे रहने के लिए सुबह के नाश्ते में पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें ताकि आप पूरे दिन अधिक सक्रिय और ऊर्जावान बने रहें।

ज्यादा पानी का करें सेवन
जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीते हैं तो इसके कारण मेटाबॉलिज्म धीमा हो सकता है, जिससे आप सुस्त महसूस कर सकते हैं। इसलिए पूरा दिन भरपूर पानी पीएं और अपने शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए बिना चीनी वाला फलों के जूस का भी सेवन करें। इससे आप तरोताजा महसूस करेंगे। इसके अतिरिक्त, यह आपके ब्लड प्रेशर और दिल की धडक़न को नियंत्रित रखने में भी मदद करता है।

काम के बीच में लें थोड़ा ब्रेक
दोपहर के समय जब आप काम कर रहे होते हैं तो थकान महसूस होना आम बात है। यह आपके दिमाग और शरीर को ब्रेक लेने का संकेत देता है। ऐसे में कुछ मिनट आराम करें। इससे आपको अपनी प्रोडक्टिविटी बढ़ाने और जब आप काम पर लौटते हैं तो ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी। ब्रेक आपके तनाव के स्तर को कम करने और आपके कामकाज में सुधार करने में भी मदद कर सकते हैं।

धूप में बिताएं थोड़ा समय
धूप में टहलने या बैठने से शरीर को यह संदेश मिलता है कि यह सोने का समय नहीं है। यह तरीका आपके शरीर के आलस को दूर करके ऊर्जा प्रदान करने में मदद कर सकता है। सूर्य की रोशनी के संपर्क में आने से शरीर में विटामिन- डी का उत्पादन भी बढ़ता है, जो स्वस्थ हड्डियों और मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देता है।

नींद का बनाएं पैटर्न
पर्याप्त नींद नहीं लेने से शरीर के सभी चक्र प्रभावित होते हैं, जिसके कारण किसी भी समय नींद आना स्वाभाविक है। दोपहर में नींद से बचने के लिए रोजाना रात को छह से सात घंटे की नींद लें। इसके अतिरिक्त, समय पर सोने और जल्दी उठने का भी नियम बना लें ताकि शरीर इस चीज का आदि हो जाए कि कब सोना है और कब नहीं।

RELATED ARTICLES

मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से दिमाग पर पड़ सकते हैं ये 5 नकारात्मक प्रभाव

आज के समय में मोबाइल फोन जीवन की हर समस्या का समाधान बन गया है। आप चाहें अपने मन को बहला रहे हों या...

नकली पलकों को साफ करने के लिए अपनाएं ये टिप्स, दोबारा कर सकेंगे इस्तेमाल

खूबसूरत आंखें पाना हर महिला की ख्वाहिश होती है और अगर पलकें घनी और गहरी हों तो खूबसूरती पर चार चांद लग जाते हैं।...

जानें, सेहत के लिए कितनी फायदेमंद हैं फूलगोभी की पत्तियां और कैसे करें सेवन

सर्दी के मौसम में खाने के लिए मौसमी फल और सब्जियां मिलती हैं। फूल गोभी भी इसी मौसम में मिलती है। इसे सर्दियों की...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

काश्तकारों का मुआवजा समय पर दिया जाए- सतपाल महाराज

विधानसभावार द्वितीय चरण स्टेज-2 सड़कों की हुई समीक्षा मंत्री ने की विधानसभा क्षेत्र चौबट्टाखाल में सड़कों की रिपोर्ट तलब देहरादून। प्रदेश के लोक निर्माण, पर्यटन, पंचायती राज,...

पीसीएस मुख्य परीक्षा में शंकाएं होने के बावजूद भी जल्दबाजी में कराई जा रही परीक्षा- करन माहरा

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने पीसीएस मुख्य परीक्षा को लेकर सरकार और राज्य लोक सेवा आयोग पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि...

आरबीआई की मौद्रिक नीति का बाजार पर रहेगा असर

मुंबई।  विदेशी बाजारों के सकारात्मक रुझान के बीच स्थानीय स्तर पर एफएमसीजी, बैंक और आईटी समूह के जबरदस्त प्रदर्शन की बदौलत बीते सप्ताह 2.6 प्रतिशत...

देहरादून अपडेट- नो पार्किंग जोन में खड़े वाहनों पर अब ड्रोन से रखी जाएगी नजर, रिकार्डिंग के आधार पर किया जाएगा चालान

देहरादून। नो पार्किंग जोन में खड़े वाहनों पर ड्रोन से नजर रखी जाएगी। इसकी रिकार्डिंग के आधार पर इन वाहनों का चालान भी किया जाएगा।...

Recent Comments