Monday, March 4, 2024
Home ब्लॉग चीन की बढ़ती चिंताएं

चीन की बढ़ती चिंताएं

अमेरिका में चीनी गुब्बारों के बाद चीन निर्मित क्रेनों से जासूसी का भय फैला है। उधर जर्मनी से खबर है कि वहां चीन की 5- कंपनियों के कुछ हिस्सों पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी हो रही है। पश्चिमी देशों में इन दिनों चीन को लेकर गहरा रहे भय के माहौल के बीच यह खबर आई कि अमेरिकी अधिकारियों में यह अंदेशा फैल गया है कि बंदरगाहों पर इस्तेमाल होने वाले चीन में बने क्रेनों में जासूसी के उपकरण लगे हो सकते हैँ। उसी खबर में बताया गया कि अमेरिका के ज्यादातर बंदरगाहों पर जिन स्मार्ट क्रेन का इस्तेमाल होता है, उनमें से लगभग सभी चीन में निर्मित हैं। अमेरिका में चीनी गुब्बारों को लेकर पैदा हुई चिंता के उस माहौल का यह नया संस्करण है। उधर जर्मनी से खबर है कि वहां चीनी कंपनी हुआवे और जेडटीई के बनाए 5- नेटवर्क के कुछ हिस्सों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा सकता है।

जर्मनी के मीडिया में ये खबरें बहुचर्चित हैं और उनमें बताया गया है कि अगर यह पाबंदी लगती है, तो यह एक बड़ा फैसला होगा। जर्मनी के लगाए जाने वाले संभावित प्रतिबंध में वो हिस्से शामिल होंगे, जो 5- नेटवर्क में पहले से ही इन-बिल्ट हैं। प्रतिबंध लगने के बाद ऑपरेटरों को ये हिस्से हटाकर उनकी जगह नए पुर्जे लगाने होंगे। जर्मनी ने 2021 में आईटी सुरक्षा कानून पास किया था। इसमें भावी नेटवर्कों के लिए दूरसंचार से जुड़े उपकरण बनाने वाली कंपनियों के लिए सख्त नियम-कायदे तय किए गए थे।

इस कानून का अब पहली बार बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होगा। हुवावे और जेडटीई कंपनियों पर प्रतिबंध लगवाने का अभियान अमेरिका ने पांच साल पहले शुरू किया था। उसके बाद कई देशों में इन कंपनियों को प्रतिबंधित किया गया, लेकिन उनमें जर्मनी शामिल नहीं है। लेकिन हाल में जर्मनी में तफ्तीश शुरू हुई। इस दौरान जानने की कोशिश की गई कि क्या 5- नेटवर्क के विस्तार में ऐसे उपकरण भी शामिल हैं, जिनसे सुरक्षा के लिए जोखिम पैदा हो सकता है। हालांकि अभी यह जांच आधिकारिक तौर पर पूरी नहीं हुई है, लेकिन मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक नतीजे स्पष्ट हो चुके हैं। सेमीकंडक्टर इंडस्ट्री में चीन को अलग-थलग करने की मुहिम पश्चिम में काफी आगे बढ़ चुकी है। इसके बावजूद यह सवाल बना हुआ है कि यह मुहिम सचमुच ठोस साक्ष्यों पर आधारित है, या चीन की प्रगति को रोकने के अभियान का हिस्सा है?

RELATED ARTICLES

केजरीवाल को अब समन पर जाना होगा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने उनको आठवां समन भेजा है और चार मार्च को...

कानून का भय ही नहीं

आखिर देश में कानून और सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का यह हाल क्यों हो गया है कि एक कंपनी उसकी तनिक परवाह नहीं करती?...

विपक्ष भले मरा हो पर वोट ज्यादा

हरिशंकर व्यास भारत के लोकतंत्र का अभूतपूर्व तथ्य है जो 1952 से अभी तक के लोकसभा चुनावों में कभी भी, किसी भी सत्तारूढ़ पार्टी को...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

फूलदेई पर्व पर कक्षा 8वीं तक के छात्र- छात्राओं को मिले अवकाश

उत्तराखंड का लोकपर्व फूलदेई लोक परम्पराओं का वाहक देहरादून। फूलदेई पर्व पर कक्षा आठ तक वे स्टूडेंट्स के लिए अवकाश घोषित करने की मांग की।...

बदरीनाथ-केदारनाथ में जल्द शुरू होगें अस्पताल – डा. आर राजेश कुमार

चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने में जुटा स्वास्थ्य महकमा मरीजों के इलाज में कोताही बर्दाश्त नहीं, होगी सख्त कार्रवाई- डॉ आर राजेश कुमार देहरादून।...

भारत घूमने आई स्पेन की महिला से गैंगरेप, चार लोग हिरासत में

विधानसभा में भी उठा मुद्दा विपक्ष हमलावर दुमका। झारखंड के दुमका के हंसडीहा थाना क्षेत्र में स्पेन की एक महिला के साथ गैंगरेप की वारदात...

गंग नहर में डूबा व्यक्ति , SDRF ने बचाई जान

देहरादून।  दिनाँक 02 मार्च 2024 को कलियर मार्ग सोनाली पार्क रूड़की के पास IIT के दो छात्र डूब गए थे जिसमें से एक छात्र...

Recent Comments