Monday, March 4, 2024
Home बिज़नेस आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मेक इन इंडिया को मजबूती देने के...

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मेक इन इंडिया को मजबूती देने के लिए भारतीय कंपनियों से किया करोड़ो रुपये का सौदा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मेक इन इंडिया को और मजबूती देने के लिए भारतीय कंपनियों से 27 हजार करोड़ रुपये का सौदा किया है। इसके तहत सेना के विभिन्न अंगों के लिए  हथियारों, समुद्री पोतों, मिसाइल प्रणालियों व अन्य उपकरणों की खरीद होनी है। सबसे अधिक 19600 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा नौसेना के लिए अगली पीढ़ी के 11 गश्ती पोतों और अगली पीढ़ी के छह मिसाइल युक्त पोतों की खरीद के लिए किया गया है। वहीं, थल सेना ने भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (बीडीएल) के साथ 6000 करोड़ रुपये के आकाश एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम की दो रेजिमेंट की खरीद का सौदा किया है। इसके अलावा, रक्षा मंत्रालय ने भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) को 13 लाइनेक्स -यू2 फायर कंट्रोल सिस्टम के लिए 1700 करोड़ रुपये का आदेश दिया है।

रक्षा मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार 11 गश्ती पोतों के निर्माण का ठेका गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) और गार्डन रीच शिपबिल्डिंग एंड इंजीनियर्स (जीआरएससी), कोलकाता को दिया गया है। यह सौदा 9,781 करोड़ रुपये में हुआ है। 7 का निर्माण जीएसएल जबकि 4 का जीआरएसी को करना है और यह पूरी तरह स्वदेशी पोत होंगे। इनकी आपूर्ति 2026 के सितंबर महीने से शुरू होगी। बीईएल से खरीदी जाने वाली लाइनेक्स-यू2 फायर कंट्रोल प्रणाली को इन्हीं गश्ती पोतों पर लगाया जाएगा।
थल सेना ने बीडीएल के साथ आकाश एयर डिफेंस सिस्टम का जो सौदा किया है वह पहले विदेश से खरीदा जाना था। लेकिन मोदी सरकार के स्वदेशी पर जोर के बाद इसे भारतीय कंपनी से खरीदने का फैसला किया गया। रक्षा सूत्रों ने बताया, यह मिसाइल सिस्टम का उन्नत वर्जन है और भारतीय सेना की मारक क्षमता में बढ़ावा करेगा।
आकाश मिसाइल प्रणाली को चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा के ऊंचाई वाले इलाकों में तैनात किया जाएगा। इससे सेना की रक्षा क्षमता में बढ़ोतरी होगी। वर्तमान आकाश मिसाइल के मुकाबले इस उन्नत मिसाइल प्रणाली में स्वदेशी एक्टिव रेडियो फ्रिक्वेंसी (आरएफ) सीकर का इस्तेमाल किया गया है जो इसे ज्यादा सटीक बनाती है। रक्षा मंत्रालय ने बीईएल से नौसेना के लिए जो 13 लाइनेक्स -यू2 फायर कंट्रोल सिस्टम खरीद का सौदा किया है वह वास्तव में नौसेना की गन फायर कंट्रोल प्रणाली है जिसे पूरी तरह स्वदेश में विकसित किया गया है। इसे समुद्र में सटीकता से निशाना लगाने और लक्ष्य निर्धारित करने में मदद मिलेगी। इसका इस्तेमाल समुद्र, वायु और सतह तीनों लक्ष्यों के लिए किया जा सकता है।
RELATED ARTICLES

आईसीआईसीआई बैंक ने एफडी दरों में किया बदलाव, जानिए अब कितना मिलेगा ब्याज

नई दिल्ली। आईसीआईसीआई बैंक ने अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) पर दी जाने वाली ब्याज दरों में बदलाव किया है। बैंक की तरफ से दी...

व्हाट्सएप पर बदल जाएगा चैटिंग का अंदाज, कंपनी ला रही कमाल का फीचर

सैन फ्रांसिस्को। मेटा के स्वामित्व वाला व्हाट्सएप अपने यूूजर्स को बेेहतर अनुभव प्रदान करने के लिए नए फीचर ‘फेवरेट कॉन्टैक्ट फिल्टर’ पर काम कर...

इंस्टाग्राम पर यूजर्स को मिलेगा एआई फीचर, जानें कैसे करेगा काम

नई दिल्ली।  मेटा के स्वामित्व वाला इंस्टाग्राम कथित तौर पर यूजर्स को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से मैजेस लिखने की अनुमति देने की कार्यक्षमता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

फूलदेई पर्व पर कक्षा 8वीं तक के छात्र- छात्राओं को मिले अवकाश

उत्तराखंड का लोकपर्व फूलदेई लोक परम्पराओं का वाहक देहरादून। फूलदेई पर्व पर कक्षा आठ तक वे स्टूडेंट्स के लिए अवकाश घोषित करने की मांग की।...

बदरीनाथ-केदारनाथ में जल्द शुरू होगें अस्पताल – डा. आर राजेश कुमार

चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने में जुटा स्वास्थ्य महकमा मरीजों के इलाज में कोताही बर्दाश्त नहीं, होगी सख्त कार्रवाई- डॉ आर राजेश कुमार देहरादून।...

भारत घूमने आई स्पेन की महिला से गैंगरेप, चार लोग हिरासत में

विधानसभा में भी उठा मुद्दा विपक्ष हमलावर दुमका। झारखंड के दुमका के हंसडीहा थाना क्षेत्र में स्पेन की एक महिला के साथ गैंगरेप की वारदात...

गंग नहर में डूबा व्यक्ति , SDRF ने बचाई जान

देहरादून।  दिनाँक 02 मार्च 2024 को कलियर मार्ग सोनाली पार्क रूड़की के पास IIT के दो छात्र डूब गए थे जिसमें से एक छात्र...

Recent Comments