Monday, December 4, 2023
Home ब्लॉग मोदी के हमले से नीतीश का भाव बढ़ेगा

मोदी के हमले से नीतीश का भाव बढ़ेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले भी विपक्षी पार्टियों पर हमला करते थे और उनको भ्रष्ट व परिवारवादी बताते थे। परंतु विपक्षी पार्टियों की पटना में हुई बैठक के बाद अपनी पहली सभा में उन्होंने जिस तरह से हमला किया वह अभूतपूर्व था। उन्होंने भोपाल में भाजपा के एक कार्यक्रम में सभी विपक्षी पार्टियों को भ्रष्ट बताया, उनके घोटालों की सूची बताई और सब पर कार्रवाई का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि विपक्ष की गारंटी है घोटाला करने की तो मेरी गारंटी है सभी घोटालेबाजों पर कार्रवाई करने की। उनकी इस बात का एक मतलब तो यह निकाला जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में विपक्षी पार्टियों के नेताओं और उनके करीबियों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों की कार्रवाई तेजी होगी।

प्रधानमंत्री के भोपाल के भाषण की ज्यादा चर्चा इस वजह से भी हो रही है कि उन्होंने पहली बार एक एक नेता का नाम लेकर उस पर हमला किया। उन्होंने तमिलनाडु में डीएमके पर सवा लाख करोड़ रुपए की संपत्ति इकट्ठा  करने का आरोप लगाया तो पश्चिम बंगाल में तृणमूल के ऊपर 25 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप लगाया। महाराष्ट्र में एनसीपी के ऊपर 70 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप प्रधानमंत्री ने लगाया। मोदी ने बताया कि पटना में इक_ा हुई पार्टियों ने कुल मिला कर 20 लाख करोड़ रुपए का घोटाला किया है। इतना ही नहीं उन्होंने लालू प्रसाद, फारूक अब्दुल्ला आदि कई नेताओं के नाम लेकर कहा कि अगर आप इनके बच्चों का भला करना चाहते हैं तो इनकी पार्टियों को वोट दें और अगर अपने बच्चों का भला चाहते हैं तो भाजपा को वोट दें।

इस तरह पहली बार इतने तीखे शब्दों में प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर भ्रष्टाचार और परिवारवाद का आरोप लगाया। पहले भी इस तरह के आरोप लगते रहे हैं और विपक्षी पार्टियां इनकी अनदेखी करती रही हैं। जनता भी इन आरोपों पर ज्यादा ध्यान नहीं देती है, खासतौर से विधानसभा के चुनाव में। लेकिन लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के मुकाबले भ्रष्टाचार और परिवारवाद का मुद्दा विपक्ष के अभियान को कमजोर करेगा। तभी ऐसा लग रहा है मोदी के हमले के बाद जदयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का भाव बढ़ सकता है।

विपक्ष के संभावित गठबंधन में नीतीश कुमार इकलौते नेता हैं, जो निजी तौर पर भ्रष्टाचार के आरोपों से मुक्त हैं और उनके परिवार का कोई सदस्य राजनीति में सक्रिय नहीं है। परिवार के किसी व्यक्ति को राजनीति में आगे बढ़ाने का आरोप उनके ऊपर नहीं है। उनका इकलौता बेटा बेरोजगार है फिर भी राजनीति नहीं करता है। उनकी पार्टी के नेताओं के ऊपर भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं हैं। अपने राजनीतिक जीवन में वे ज्यादातर समय वे भाजपा के साथ ही सरकार में रहे हैं इसलिए उनके ऊपर आरोप लगाए जाएंगे तो वो आरोप भाजपा पर भी लगेंगे। बहरहाल, वे भ्रष्टाचार और परिवारवाद दोनों आरोपों से मुक्त हैं। इसलिए विपक्ष के लिए उनका चेहरा आगे करना आसान होगा और फायदेमंद भी हो सकता है।

RELATED ARTICLES

भेदभाव का नायाब नमूना

नोएडा में लड़कियां अब आठ बजे शाम के बाद क्लास ज्वाइन नहीं कर पा रही हैं। ऐसी रोक लगाते हुए इसे ध्यान में नहीं...

सिल्क्यारा सुरंग दुर्घटना के सबक

अजीत द्विवेदी उत्तराखंड के उत्तरकाशी की सिल्क्यारा की निर्माणाधीन सुरंग में हुए दुखद हादसे का अंत सुखद रहा है। सुरंग में फंसे सभी 41 मजदूरों...

क्योंकि सवाल राजनीतिक है

जो समस्या पैदा हुई है, उसका कारण संविधान की अस्पष्टता नहीं है। अगर केंद्र में सत्ताधारी पार्टी सर्वसत्तावादी महत्त्वाकांक्षाएं पाल ले, तो वे तमाम...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

यूट्यूब ने नियमों में किया बदलाव, अब वीडियो क्रिएटर्स को एआई जेनरेटेड कंटेंट की पहले देनी होगी जानकारी

नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में पिछले कुछ सालों में जबरदस्त बदलाव हुए हैं। एआई के आने के बाद जहां लोगों का काम जहां आसान...

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियों का सीएम ने लिया जायजा

जॉलीग्रांट से एफआरआई में जारी सौंदर्यीकरण कार्यों की तैयारी परखीं देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली से लौटते ही जौलीग्रांट से एफ.आर.आई सड़क...

दिल्ली का एक्यूआई बेहद खराब , न्यूनतम तापमान 12.3 डिग्री तक गिरा

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में बनी हुई है। इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि राष्ट्रीय...

उत्तराखंड के लोक कलाकारों के नाम एक झूमती शाम

लोकगायक नरेन्द्र सिंह नेगी, किशन महिपाल व अंजलि खरे समेत कई कलाकारों ने उत्तराखंड लोक विरासत में बिखेरे रंग देहरादून। उत्तराखंड लोक विरासत का आगाज शनिवार...

Recent Comments