Monday, March 4, 2024
Home उत्तराखंड जोशीमठ भू-धंसाव प्रभावित क्षेत्र में क्षति के हिसाब से बनेगी पुनर्वास की...

जोशीमठ भू-धंसाव प्रभावित क्षेत्र में क्षति के हिसाब से बनेगी पुनर्वास की कार्ययोजना

देहरादून। जोशीमठ भू-धंसाव प्रभावित क्षेत्र में क्षति के हिसाब से ही विस्थापन एवं पुनर्वास की कार्ययोजना बनेगी। आपदा प्रभावित क्षेत्र में जो भवन या वार्ड ज्यादा क्षतिग्रस्त और संवेदनशील होंगे, उन्हें वहां से सुरक्षित जगहों पर बसाने पर विचार हो सकता है। केंद्र और राज्य का जोशीमठ के पूरे भू-धंसाव क्षेत्र को अन्यत्र बसाये जाने का इरादा नहीं है, बल्कि क्षतिग्रस्त इलाकों के हिसाब से पुनर्वास, पुनर्निर्माण की रूपरेखा बनाई जा सकती है। मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधु के मुताबिक, नई दिल्ली में पीडीएनए टीम के साथ एनडीएमए की बैठक हो चुकी है। इस बैठक का कार्यवृत्त प्राप्त होने के बाद कुछ स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

जोशीमठ के भू-धंसाव प्रभावितों को उनके क्षतिग्रस्त भवनों का मुआवजा देने के बाद अभी सरकार को पुनर्वास और विस्थापन के बारे में भी निर्णय लेना है। प्रभावितों की भूमि के मुआवजे की दरें भी अभी तय नहीं हो पाई हैं। हालांकि प्रदेश सरकार ने आपदा प्रभावित क्षेत्र में पुनर्वास, पुनर्स्थापन और पुनर्निर्माण के लिए अपने बजट में 1000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। करीब तीन हजार करोड़ रुपये केंद्र से आर्थिक पैकेज के रूप में मांगे हैं, लेकिन सब कुछ केंद्र की रिपोर्ट पर टिका है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान के तहत जोशीमठ भू-धंसाव क्षेत्र का पोस्ट डिजास्टर नीड्स असेसमेंट (पीडीएनए) का ड्राफ्ट तैयार हो चुका है। नई दिल्ली में पिछले दिनों राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनएडीएमए) ने ड्राफ्ट के बारे में तकनीकी रायशुमारी कर ली है।

पीडीएनए के तहत जोशीमठ में भू-धंसाव से नुकसान का वैज्ञानिक तरीके से आकलन करने के बाद ड्राफ्ट रिपोर्ट फाइनल होनी है। माना जा रहा है कि नई दिल्ली में एक और बैठक होगी, जिसमें ड्राफ्ट पर मुहर लग जाएगी। पीडीएनए के ड्राफ्ट से ही तय होगा कि केंद्र सरकार जोशीमठ भू-धंसाव क्षेत्र के लिए कितना आर्थिक पैकेज देती है। प्रदेश सरकार ने केंद्र से करीब तीन हजार करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता मांगी है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध कर चुके हैं।

जोशीमठ भू धंसाव के संबंध में पीडीएनए की टीम दौरा कर चुकी है। नई दिल्ली में एक बैठक हुई है। अभी बैठक का कार्यवृत्त प्राप्त नहीं हुआ है। हम जल्द रिपोर्ट आने का इंतजार कर रहे हैं। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्ययोजना तय होगी।
RELATED ARTICLES

फूलदेई पर्व पर कक्षा 8वीं तक के छात्र- छात्राओं को मिले अवकाश

उत्तराखंड का लोकपर्व फूलदेई लोक परम्पराओं का वाहक देहरादून। फूलदेई पर्व पर कक्षा आठ तक वे स्टूडेंट्स के लिए अवकाश घोषित करने की मांग की।...

बदरीनाथ-केदारनाथ में जल्द शुरू होगें अस्पताल – डा. आर राजेश कुमार

चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने में जुटा स्वास्थ्य महकमा मरीजों के इलाज में कोताही बर्दाश्त नहीं, होगी सख्त कार्रवाई- डॉ आर राजेश कुमार देहरादून।...

गंग नहर में डूबा व्यक्ति , SDRF ने बचाई जान

देहरादून।  दिनाँक 02 मार्च 2024 को कलियर मार्ग सोनाली पार्क रूड़की के पास IIT के दो छात्र डूब गए थे जिसमें से एक छात्र...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

फूलदेई पर्व पर कक्षा 8वीं तक के छात्र- छात्राओं को मिले अवकाश

उत्तराखंड का लोकपर्व फूलदेई लोक परम्पराओं का वाहक देहरादून। फूलदेई पर्व पर कक्षा आठ तक वे स्टूडेंट्स के लिए अवकाश घोषित करने की मांग की।...

बदरीनाथ-केदारनाथ में जल्द शुरू होगें अस्पताल – डा. आर राजेश कुमार

चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने में जुटा स्वास्थ्य महकमा मरीजों के इलाज में कोताही बर्दाश्त नहीं, होगी सख्त कार्रवाई- डॉ आर राजेश कुमार देहरादून।...

भारत घूमने आई स्पेन की महिला से गैंगरेप, चार लोग हिरासत में

विधानसभा में भी उठा मुद्दा विपक्ष हमलावर दुमका। झारखंड के दुमका के हंसडीहा थाना क्षेत्र में स्पेन की एक महिला के साथ गैंगरेप की वारदात...

गंग नहर में डूबा व्यक्ति , SDRF ने बचाई जान

देहरादून।  दिनाँक 02 मार्च 2024 को कलियर मार्ग सोनाली पार्क रूड़की के पास IIT के दो छात्र डूब गए थे जिसमें से एक छात्र...

Recent Comments