Saturday, March 2, 2024
Home ब्लॉग प्रतिबंध या रस्म-अदायगी?

प्रतिबंध या रस्म-अदायगी?

बेहतर यह होता कि हिरोशिमा में जुटे जी-7 देशों के नेता इसका आकलन करते कि पिछले 15 महीनों में उन्होंने रूस पर जो प्रतिबंध लगाए, उनका अपेक्षित असर क्यों नहीं हुआ। इसके बजाय उन्होंने नए प्रतिबंधों की बात की। जब जी-7 के देश अपनी शिखर बैठक के लिए जुटे, तो उन्हें यह जरूरी महसूस हुआ कि वे रूस पर कुछ नए प्रतिबंधों का एलान करें। जबकि बेहतर यह होता कि वे इसका आकलन करते कि पिछले 15 महीनों में उन्होंने जो प्रतिबंध लगाए, उनका अपेक्षित असर क्यों नहीं हुआ।

इस दौरान ना तो रूसी मुद्रा रुबल को रबल (मलवा) में बदला जा सका, ना ही रूस की अर्थव्यवस्था ध्वस्त हुई और ना ही यूक्रेन में युद्ध जारी रखने की उसकी क्षमता खत्म हुई। उलटे इन प्रतिबंधों के असर से कम से कम यूरोप की अर्थव्यवस्था डगमगा गई है। बहरहाल, पश्चिमी नेताओं को रूस के खिलाफ कुछ करने का संकेत देना था, तो ब्रिटेन ने कहा कि वह रूस के हीरों पर प्रतिबंध लगाएगा। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने एलान किया कि उनका देश, रूस से हीरे, तांबे, एल्युमीनियम और निकेल जैसी धातुओं का आयात रोक रहा है। रूस हर साल अरबों डॉलर का हीरे बेचता है।

अमेरिका ने संकेत दिया कि वह उन कंपनियों पर सख्ती करेगा, जो प्रतिबंधों को कमजोर करने में रूस की मदद कर रही हैं। जी-7 ने अपने साझा बयान में यह भी कहा- हम अपने उन कदमों में भी सफलता पा रहे हैं जिनके तहत तय किया जा रहा है कि रूस, हमारे और दुनिया के खिलाफ ऊर्जा को हथियार न बना सके। प्रतिबंधों के इस शोर के बीच जर्मनी के चांसलर ओलफ शोल्ज अकेले खड़े नजर आए, जिन्होंने रूस पर नये आर्थिक प्रतिबंध लगाने का समर्थन नहीं किया। उन्होंने कहा कि रूस के खिलाफ ऐसे कदम उठाए जाएं, जो तार्किक हों और अमल में लाए जा सकें।

बात वाजिब है। रूस के पास कच्चे तेल, गैस, हीरों और कई जरूरी धातुओं का बड़ा भंडार है। इसके कारण पश्चिमी प्रतिबंध रूस को आर्थिक रूप से कमजोर करने में बहुत हद तक नाकाम साबित हो रहे हैं। उधर रूस, दुनिया के दो बड़े देशों भारत और चीन को खूब तेल बेच रहा है, जिससे उसे काफी आमदनी हो रही है। जी-7 ने पिछले साल रूसी तेल की 60 डॉलर प्रति बैरल की सीमा तय की थी। लेकिन यह कदम भी ज्यादा कारगर नहीं हुआ।

RELATED ARTICLES

विपक्ष भले मरा हो पर वोट ज्यादा

हरिशंकर व्यास भारत के लोकतंत्र का अभूतपूर्व तथ्य है जो 1952 से अभी तक के लोकसभा चुनावों में कभी भी, किसी भी सत्तारूढ़ पार्टी को...

ट्रंप को हराना क्यों मुश्किल?

श्रुति व्यास डोनान्ड ट्रंप ने फिर साबित किया है कि वे अजेय हैं। 24 फरवरी को ट्रंप ने प्रतिस्पर्धी निकी हैली के गृहराज्य साऊथ केरोलाइना...

विपक्ष के गढ़ में क्या खिलेगा कमल?

हरिशंकर व्यास यह भी अहम सवाल है कि क्या भाजपा किसी ऐसे राज्य में चुनाव जीत पाएगी, जहां इससे पहले वह कभी नहीं जीती है?...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सहायक समाज कल्याण अधिकारियों व छात्रावास अधीक्षकों को मिले नियुक्ति-पत्र

अपनी सेवाओं के माध्यम से अंत्योदय के सिद्धांत को पूर्ण करें - मुख्यमंत्री प्रतिभावान एवं क्षमतावान अभ्यर्थी ही परीक्षाओं में हो रहे सफल- मुख्यमंत्री देहरादून। मुख्यमंत्री...

सेब कास्तकरों का एक माह के भीतर शेष भुगतान किया जाएगा

कृषि मंत्री गणेश जोशी ने अधिकारियों को दिए निर्देश देहरादून। प्रदेश के कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्री गणेश जोशी से आज हाथीबड़कला स्थित उनके कैंप...

प्रकृति से जुड़ने का संदेश देती है पुष्प प्रदर्शनी- महाराज

राज भवन में महाराज ने किया बसंतोत्सव में प्रतिभाग देहरादून। राज भवन में बसंतोत्सव 2024 "संकल्प से सिद्धि, फूलों से समृद्धि" तीन दिवसीय पुष्प प्रदर्शनी...

सीएचसी चौण्ड प्रकरण में इलाज नहीं मिलने पर कार्यवाही के निर्देश

स्वास्थ्य महानिदेशक को लापरवाह चिकित्सकों पर एक्शन लेने के निर्देश कहा, प्रत्येक अस्पताल में चिकित्सकों की लगेगी बायोमेट्रिक उपस्थिति देहरादून। टिहरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चौण्ड...

Recent Comments